शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

"ये किसकी है बेटियाँ "

ये 'दामिनी' ये  'अंजलि' ये किसकी है बेटियाँ
जब प्यार ममता चाहिए, किसकी शिकार ये बेटियां ।
नादान ये या हम सभी जो देखकर अनजान है
हम मूंद कर आँखे  समझते बच गई सब  बेटियां ।
हिंसक पशु पर हम दया करते नहीं फिर आज क्योँ
इन घूमते नरपशुओं से आओ बचा लें बेटियाँ ।
जब रोज चिंगारी उठे कब तक बचाएं ओढ़नी
ये आग लगने अब ना दे आओ बचा ले बेटियां ।
हम कब सिसक सुन पाएंगे ये झूठा बहरापन हटा
जब रूठ जाएगी देवी वो जो देती है हमें बेटियां ।
दामिनी को श्रद्धा सुमन  के साथ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

...